Saturday, January 16, 2010

Fayda

तुम आज जा रही हो
मुझे मालूम है-
कल आ जाओगी
और अगर भी रोक लें कोई
मजबूरियां तुमको

तो  भी याद करोगी,
मुझको हमेशा
क्योंकि -
तुम भूल नही सकती
मेरे साथ गुजरे कुछ लम्हे .

मैंने हर पल
जीना चाहा है ,तुम्हारे साथ.
तुम्हारी मजबूरियां भी
महसूस की हैं ,
और रोया  भी हूँ ,
तुम्हारा साथ पाने के लिए. 

मुझे अफ़सोस  नही,
कि तुमने-
मेरा  फायदा उठाया .
मैं तो  हमेशा  से चाहता हूँ ,
कि तुम हमेशा फायदे में रहो.
क्योंकि तब मैं खुद को,
जीतता सा महसूस करता हूँ.

2 comments:

  1. amazing!!!!!!!!!!!!!!!!!
    your all poems are good but dis is my favourite....

    ReplyDelete
  2. yahi to khas baat hai apki........

    ReplyDelete